'मैंने अपने पिता को आपके पास भेजा, आपने उनके टुकड़े लौटाए', क्यों चर्चा में है प्रियंका का ये भाषण

    Priyanka Gandhi on Rajeev Gandhi : मध्य प्रदेश के मुरैना में एक चुनावी जनसभा में कांग्रेस महासचिव ने कहा कि मैंने अपने पिता को हिफाजत से आपके पास भेजा था. उनकी सुरक्षा आपको करनी चाहिए थी. मैं आपसे नाराज हूं, पर आपका दर्द समझती हूं.

    'मैंने अपने पिता को आपके पास भेजा, आपने उनके टुकड़े लौटाए', क्यों चर्चा में है प्रियंका का ये भाषण
    मध्य प्रदेश के मुरैना में एक चुनावी जनसभा में बोलती हुईं कांग्रेस नेता और महासचिव प्रियंका गांधी | Photo- Social media

    नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव 2024 के लिए तीसरे चरण का मतदान 7 मई को होगा. इसको लेकर प्रचार तेज है. इस दौरान नेता लोगों से भावनात्मक रूप से भी जुड़ने की कोशिश कर रहे हैं. कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी का एक इमोशनल भाषण सोशल मीडिया पर चर्चा का बिषय बन गया है. इस भाषण में वह अपने पिता राजीव गांधी की हत्या का दर्द, सरहद पर शहीद होने वाले किसानों के बेटे के दर्द से जोड़ा है.

    गौरतलब है कि कांग्रेस नेता और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने एक दिन पहले मध्य प्रदेश के मुरैना में एक जनसभा को संबोधित किया. इस दौरान एक भावुक भाषण में पिता की शहादत का जिक्र करते हुए देश के प्रति अपने अटूट प्रेम को साझा किया. 

    इस 2 मिनट 19 सेकेंड के भाषण का वीडियो वरिष्ठ पत्रकार विनोद शर्मा ने प्रियंका गांधी को टैग करते हुए अपने एक्स हैंडल पर साझा किया है. इसे उन्होंने 2024 का प्रियंका का सर्वोत्तम भाषण करार दिया है. 

    उनके इस पोस्ट को अपने एक्स हैंडल पर साझा करते हुए राजनीतिक विश्लेषक और स्वराज इंडिया पार्टी अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा, "बेशक".

    यह भी पढे़ं : सिब्बल बोले- EC प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताए क्यों देर से जारी किया वोटिंग डेटा, विशेषज्ञ को 'खेल' का डर

    शर्मा ने कहा- इसमें जो सच है वो आपको रुला सकता है, सुनें और खुद फैसला करें

    वरिष्ठ पत्रकार विनोद शर्मा ने लिखा है, "मैंने अपनी पत्रकारिता के लंबे कार्यकाल में बहुत से भाषण सुनें हैं. मेरी नज़र में ⁦@priyankagandhi का ये भाषण, चुनाव-2024 का सर्वोत्तम भाषण है. उनकी बात कहने की कला में संयम है, इमोशन है, तर्क है, वो व्यक्तिगत सच है जो आपको रुला सकता है. सुनें और ख़ुद फ़ैसला करें …" 

    बेशक https://t.co/qGKgEY6pPn

    वहीं कांग्रेस पार्टी ने भी इस रैली की तस्वीरें अपने एक्स हैंडल पर साझा करते हुए लिखा है, "आज कांग्रेस महासचिव @priyankagandhi जी ने मुरैना, मध्य प्रदेश में विशाल जनसभा को संबोधित किया. ये न्याय युद्ध है, जिसमें जनता हमारे साथ है. जीत सिर्फ न्याय की होगी."

    'मैंने अपने पिता को हिफाजत से आपके पास भेजा, आपने उनके टुकड़े लौटाए'

    इस शेयर हो रहे वीडियो में प्रियंका गांधी कहती हैं, "19 साल की उम्र में जब मैं अपने शहीद पिताजी (राजीव गांधी) के टुकड़े घर लाई, तो मैं नाराज थी इस देश से. मैं नाराज थी...मेरे दिल में ये भावना थी मैंने अपने पिता को भेजा, आपका काम था सुरक्षित रखना. मैंने अपने पिता को हिफाजत से आपके पास भेजा और आपने ये टुकड़े लौटा दिए मुझे और वो टुकड़े इस देश के झंडे में लपेटे हुए थे. मैं नाराज थी. मैं समझती हूं शहादत का क्या मतलब है."

    इस दौरान भीड़ से तालियां बजनी शुरू हो गई और प्रियंका रुक जाती हैं.

    इसके बाद वह फिर बोलती हैं, "आज मैं 52 साल की हूं. पहली बार मैं ये चीज, ऐसे सार्वजनिक मंच पर कही है. लेकिन वो जो नाराजगी थी मेरी...आस्ते-आस्ते मैं समझी कि उस तरह की जो नाराजगी होती है, वो सिर्फ उससे होती है, जिससे प्रेम करते हैं हम. मेरे देश के लिए मेरे दिल में कितना प्रेम है. मैं कैसे समझाऊं?"

    'मेरे पिता को विरासत में धन-दौलत नहीं, शहादत की भावना मिली'

    कांग्रेस के एक्स हैंडल पर साझा एक दूसरी पोस्ट में गांधी कहती हैं, "जब मोदी जी मंच पर खड़े होकर मेरे पिताजी को देशद्रोही बोलते हैं, जब मोदी जी कहते हैं कि मेरे पिताजी ने कोई कानून बदल दिया अपनी मां (इंदिरा गांधी) से विरासत लेने के लिए...तो मोदी जी इस बात को समझ नहीं पाएंगे कि मेरे पिता जी को विरासत में धन-दौलत नहीं मिली, मेरे पिताजी को विरासत में शहादत की भावना मिली. आप समझ सकते हैं. आप इस देश के किसान हो. इस देश की मिट्टी आपने सींची है अपने पसीने से. अपने-अपने बेटे भेजे हैं सरहद पे. जब आपके बेटे शहीद होते हैं इस देश के लिए, तो मैं जानती हूं कि आपके दिल में क्या भावना है, क्योंकि वही भावना मेरे दिल में है."

     

    एक दूसरी पोस्ट में प्रियंका कहती हैं, "मेरे पिता को विरासत में 'शहादत की भावना' मिली, ये बात नरेंद्र मोदी नहीं समझ पाएंगे. नरेंद्र मोदी हमें कुछ भी कहें, घर से निकाल दें, संसद से निकाल दें, केस डाल दें, चाहे मार डालें, लेकिन शहादत की ये भावना हमारे दिल से कोई नहीं निकाल सकता है."

    यह भी पढ़ें : Lok Sabha Election Phase 3: 18% उम्मीदवार आपराधिक छवि के, BJP में 94% और कांग्रेस में 88% करोड़पति

    दिल्ली में किसान आंदोलन और लखीमपुर में किसानों को रौंदने का मुद्दा बनाया 

    उन्होंने इस दौरान किसानों को भी साधने की कोशिश की.

    कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा, "दिल्ली बॉर्डर पर लाखों किसानों ने आंदोलन किया, लेकिन PM मोदी ने उनकी एक बात नहीं सुनी. जब उत्तर प्रदेश का चुनाव आया और सैकड़ों किसान शहीद हो गए, तब जाकर तीन काले कानून वापस लिए. लखीमपुर में BJP के मंत्री के बेटे ने अपनी जीप से किसानों को रौंद दिया, लेकिन PM मोदी, मंत्री और उनके बेटे को बचाने में लगे रहे. मैं किसान परिवारों से मिलने गई तो मुझे ही गिरफ्तार करवा दिया, लेकिन मंत्री और उसके बेटे को गिरफ्तार नहीं होने दिया, जिन्होंने किसानों को कुचला."

    "प्रधानमंत्री ने विपक्ष को दबाने की तमाम कोशिशें कर ली हैं. लेकिन.. हम आवाज उठाते रहते हैं, हम डरने वाले नहीं हैं."

    तीसरे चरण में 94 सीटों पर मतदान, अब तक 190 सीटों पर हुई है वोटिंग

    गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव 2024 का चुनाव 7 चरणों में हो रहा है. दो चरणों का मतदान 19 अप्रैल और 26 अप्रैल को हो चुका है. अभी तक कुल 190 सीटों पर वोटिंग हो चुकी है. 7 मई को होने वाले तीसरे चरण के चुनाव में 94 सीटों पर वोटिंग होगी. आखिरी चरण का मतदान 1 जून को होगा. नतीजे 4 जून को आएंगे.  

    यह भी पढे़ं : 'जिन्होंने अपनों को खोया, उनके प्रति सहानुभूति', Covishield पर AstraZeneca का तर्क अब क्यों?