PM मोदी ने G-20 में कनाडा के पीएम को लगाई थी फटकार, इसी कारण आई रिश्ते में दरार

    खालिस्तान समर्थकों को पनाह देने के मसले पर कनाडा एवं भारत के रिश्तों में कड़वाहट देखी जा रही है. इसी संर्दभ में भारत ने कनाडा के आरोप को बेतुका बताते हुए खारिज कर दिया है.

    PM मोदी ने G-20 में कनाडा के पीएम को लगाई थी फटकार, इसी कारण आई रिश्ते में दरार

    कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर (Hardeep Singh Nijjar) की हत्या का आरोप भारत पर लगाते हुए एक शीर्ष डिप्लोमैट को निष्कासित कर दिया है. इधर भारत के विदेश मंत्रालय ने भी कनाडा के पीएम के आरोप को बेतुका बताते हुए इसे खारिज कर दिया है. इधर कुछ दिनों से खालिस्तान समर्थकों को पनाह देने के मसले पर कनाडा एवं भारत के रिश्तों में कड़वाहट देखी जा रही है. देश की राजधानी दिल्ली में G-20 शिखर सम्मेलन के बाद यह दोनों देशों के बीच की कड़वाहट और अधिक बढ़ती हुई नजर आ रही है.

    PM मोदी ने कनाडा के पीएम को लगाई थी फटकार

     इसी वर्ष 9-10 सितंबर को दिल्ली के भारत मंडपम में G-20 शिखर सम्मेलन का आयोजन किया गया था. जिसमें भाग लेने के लिए कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो भी आए थे. तब भारत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्रूडो के सामने सिख अलगाववादियों को संरक्षण देने एवं भारतीय राजनयिकों पर हमले के मामले को उठाते हुए तीखी नाराजगी प्रकट की थी. जिसके बाद कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के लौटते ही कनाडा ने भारत के साथ प्रस्तावित व्यापार मिशन को स्थगित कर दिया. इसके स्थगित करने के पिछे कोई कारण को भी जाहिर नहीं किया गया. लेकिन इसे G-20 शिखर सम्मेलन में भारतीय पीएम मोदी की नाराजगी से जोड़कर देखा जा रहा है.

    कनाडा एवं भारत का रिश्ता काफी पुराना

    दरअसल कनाडा एवं भारत का रिश्ता काफी पुराना है. कनाडा का नाम उन देशों में आता है, जहां भारतीय समुदाय के सर्वाधिक लोग रहते हैं. कनाडा की कुल आबादी में करीब 3 फीसदी हिस्सा भारतीय मूल के लोगों का है. एक रिपोर्ट के अनुसार कनाडा में भारतीय मूल के करीब 16 लाख लोग रहते हैं. जिसमें तकरीबन 7 लाख लोगों के आसपास NRI हैं. 2021 की जनगणना के मुताबिक वहां रहने वाले भारतीय लोगों में से लगभग 770,000 सिख हैं.

    भारत-कनाडा के व्यापारिक रिश्ते में आई खटास

    भारत एवं कनाडा के व्यापारिक रिश्ते 2022-23 में भारत ने कनाडा को 4.10 अरब डॉलर का सामान निर्यात किया था. जबकी कनाडा ने भारत को 2022-23 में 4.05 अरब डॉलर का सामान निर्यात किया था. इसी संर्दभ में कनाडा के पेंशन फंड ने भारत में तकरीबन 55 बिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश कर रखा है. जबकि भारत, कनाडा को दवाएं, फार्मा प्रोडक्ट्स, रेडीमेड गारमेंट्स, ऑर्गेनिक केमिकल्स, आयरन, स्टील, ज्वेलरी, सजावटी पत्थर एवं कुछ इंजीनियरिंग इक्विपमेंट्स निर्यात करता है. जबकि दूसरी तरफ भारत, कनाडा से मुख्य रूप से दालें, आयरन स्क्रैप, खनिज, न्यूज़ प्रिंट्स, वुड पल्प, पोटाश एवं इंडस्ट्रियल केमिकल्स जैसी चीजें आयात करता है.