नीतू घनघास ने बढ़ाया भारत का मान, मुक्केबाजी में विश्व चैंपियनशिप का खिताब जीत रचा इतिहास

    भारतीय बॉक्सर नीतू घनघास ने आज बड़ी उपलब्धि हासिल की। नीतू ने मंगोलिया की लुत्साइखान अल्तानसेत सेग पर जीत के साथ विश्व चैंपियनशिप का खिताब अपने नाम किया।

    नीतू घनघास ने बढ़ाया भारत का मान, मुक्केबाजी में विश्व चैंपियनशिप का खिताब जीत रचा इतिहास

    राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता नीतू घनघास (48 किग्रा) ने शनिवार (25 मार्च) को विश्व चैंपियनशिप का खिताब अपने नाम कर लिया। नीतू ने मंगोलिया की लुत्साइखान अल्तानसेत सेग को हराकर खिताब अपने नाम किया। भारतीय खिलाड़ी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए अल्तानसेत्सेग को एकतरफा मुकाबले में 5-0 से हराया। नीतू घनघास ने खिताब जीता है।

    बता दें, इससे पहले शनिवार को नीतू घनघास ने सेमीफाइनल मुकाबले में कजाकिस्तान की मुक्केबाज को हराया था. वहीं, आज  भारत के खाते में एक और गोल्ड मेडल आने की उम्मीद है। आज के मैच में नीतू ने आक्रामक शुरुआत की और जीत हासिल की। नीतू ने अपने पंचों के संयोजन का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया और जीत हासिल की।

    नीतू विश्व चैंपियन बनने वाली छठी भारतीय मुक्केबाज बनीं

    जीत के साथ, 2022 स्ट्रैंड्जा मेमोरियल स्वर्ण पदक विजेता नीतू विश्व चैंपियन बनने वाली छठी भारतीय मुक्केबाज़ बन गईं। छह बार की चैंपियन मैरी कॉम (2002, 2005, 2006, 2008, 2010 और 2018), सरिता देवी (2006), जेनी आरएल (2006), लेखा केसी (2006) और निकहत ज़रीन (2022) अन्य मुक्केबाज हैं जिन्होंने जीत हासिल की है।

    अब स्वीटी बूरा से गोल्ड मेडल की उम्मीद

    दरअसल, स्वीटी बूरा ने भी महिला वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप के फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है। भारतीय मुक्केबाज स्वीटी बूरा 81 किग्रा भार वर्ग के फाइनल में जगह बनाने में सफल रहीं। इस तरह आज नीतू घनघास के बाद भारत के खाते में एक और गोल्ड मेडल आ सकता है. वहीं, रविवार (26 मार्च) को सभी की निगाहें निकहत जरीन और लवलीना बोरगोहेन पर होंगी। भारत के लिए आज का दिन गर्व का दिन है।