कौन था बदनसीब शख्स james Murphy, 128 साल बाद हो पाया अंतिम संस्कार, जानें अमीर बाप की बिगड़ैल औलाद का कारनामा

    दुनिया में कई चौंकाने वाले मामले सुने होंगे, लेकिन यह मामला अजब किस्म का है. एक जेब कतरे स्टोनमैन विली (Stoneman Willie) उर्फ जेम्स मर्फी (James Murphy) का अंतिम संस्कार 128 वर्ष बाद किया गया, जबकि उसकी मौत 19 नवंबर, 1895 को हो गई थी. पूरा मामला अमेरिका की राजधानी वॉशिंगटन से जुड़ा है. 

    अमेरिका की सबसे पुरानी ममी

    स्टोनमैन विली (Stoneman Willie) को अमेरिका की सबसे पुरानी ममी बताया जाता है, जिसे 128 वर्षों के बाद दफनाया गया. इसे कुछ दिनों तक पेंसिल्वेनिया के अंतिम संस्कार गृह में रखा गया था. इसके बाद कई वर्षों पुरानी ममी को देखने के लिए लोग जमा हो गए थे.

    असली नाम लिखकर किया गया अंतिम संस्कार

    यहां पर यह जान लेना जरूरी है कि  स्टोनमैन विली उस शख्स का असली नाम नहीं था, बल्कि जब उसे 7 अक्टूबर को पेंसिलवेनिया में दफनाया गया तो तब कॉफिन पर उसका असली नाम जेम्स मर्फी (james Murphy) लिखा गया था. 

    अमीर होकर भी काटता था जेब

    स्टोनमैन विली दरअसल जेबकरता था और बहुत शराब पीता था.  उसकी 19 नवंबर, 1895 को एक स्थानीय जेल में किडनी फेल होने से मौत हो गई थी.  हुआ यूं कि शवदाह विशेषज्ञों ने उसे गलती से ममी मान लिया. इसके बाद  ऑमन के अंतिम संस्कार गृह में रख दिया.

    सिर्फ दांत और बाल बचे थे

    यहां पर बता दें कि 128 वर्ष के बाद ममी के बाल और दांत बरकरार थे, लेकिन उसकी त्वचा चमड़े जैसी दिखने लगी थी. वह ताबूत में बो टाई के साथ सूट पहने हुए लेटा था. 

    जेब कतरे ने रखा था नकली नाम

    बताया जाता है कि जेम्स मर्फी अमीर परिवार से था, लेकिन वह लोगों की जेब काटने लगा. परिवार को शर्मिंदगी का सामना नहीं करना पड़े, इसलिए अपना नाम विली (Willie) रख लिया था. वहीं, स्टोनमैन विली की पहचान कई वर्षों तक अज्ञात थी और स्थानीय अधिकारी रिश्तेदारों का पता लगाने में भी असमर्थ थे. 

    भारी भीड़ के बीच हुआ था अंतिम संस्कार

    बताया जाता है कि 7 अक्टूबर को विली के ताबूत को मोटरसाइकिल पर ले जाया गया था. फिर विली को ऑमन के अंतिम संस्कार गृह में प्रदर्शन के लिए रखा गया था.  इसके बाद उसका भारी भीड़ के बीच अंतिम संस्कार किया गया. ॉ