5 हज़ार मुलाजिमों ने 14 गांव में रेड कर उठाए 125 साइबर ठग, 100 से अधिक आधार कार्ड व लाखों रुपए का सामान बरामद

    हरियाणा के जामताड़ा नूंह में पुलिस ने साइबर ठगों के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी छापेमारी की है. यह छापेमारी हरियाणा पुलिस की 102 टीमों ने संयुक्त रूप से की है.

    5 हज़ार मुलाजिमों ने 14 गांव में रेड कर उठाए 125 साइबर ठग, 100 से अधिक आधार कार्ड व लाखों रुपए का सामान बरामद

    हरियाणा के जामताड़ा नूंह में पुलिस ने साइबर ठगों के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी छापेमारी की है. 5 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मियों और अधिकारियों की अलग-अलग टीमों ने एक साथ 14 गांवों में छापेमारी की. इस दौरान साइबर क्राइम में शामिल 125 हैकर्स और साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया। उत्तर प्रदेश से 10 हजार रुपये के इनामी इनामी इकराम गैंग निवासी साबिर उर्फ भुटू निवासी जयवंत को एक अवैध कट्टा व एक कारतूस (रोंडा) के साथ गिरफ्तार किया गया है. साबिर उर्फ भुट्टू राजस्थान, हरियाणा और दिल्ली में वाहन लूट, चोरी समेत करीब 3 दर्जन अन्य वारदातों में वांछित था.

    पुलिस ने छापेमारी के दौरान कुल 66 मोबाइल, जाली दस्तावेजों पर लिए गए 65 सिम, 166 आधार कार्ड, 3 लैपटॉप, विभिन्न बैंकों के 128 एटीएम कार्ड, 2 एटीएम स्वाइप मशीन, 1 एपीएस मशीन, 6 स्कैनर बरामद किए हैं. 5 पैन कार्ड बरामद किए गए हैं। इसके अलावा 7 देशी पिस्टल, 2 कारतूस, 2 कार, 4 ट्रैक्टर-ट्रॉलियां और 22 मोटरसाइकिलें भी जब्त की गई हैं. आपको बता दें कि पुलिस ने पिछले कुछ दिनों से साइबर और अन्य आपराधिक मामलों से जुड़े 69 आरोपियों को निशाना बनाकर छापेमारी की थी.

    102 टीमों ने की थी छापेमारी 

    पुलिस को नूंह जिले के अलग-अलग इलाकों में साइबर ठगी से जुड़े इनपुट मिले थे। एक कमरे में बैठे कुछ लोग दूसरों के बैंक खातों की सफाई कर रहे हैं। साइबर क्राइम के हॉटस्पॉट इलाकों को चिन्हित कर भारी पुलिस बल के साथ मिलकर इन जगहों पर छापेमारी की गई. हरियाणा पुलिस ने 5 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मियों की अलग-अलग टीमें बनाईं। जिसमें 1 एसपी, 6वां एडीशन एसपी, 14 डीएसपी व अन्य पुलिसकर्मियों ने साइबर क्राइम के खिलाफ अभियान चलाया. साइबर ठगों के खिलाफ यह कार्रवाई विभिन्न जिलों में गठित पुलिस की 102 टीमों ने छापेमारी की . पुन्हाना, पिंगवां, फिरोजपुर झिरका और बिछोरे क्षेत्र के चिन्हित 14 गांवों में पुलिस की अलग-अलग टीमों ने एक साथ छापेमारी कर कार्रवाई को अंजाम दिया. अभियान की शुरुआत गुरुवार रात 11.30 बजे की गई। जिसके तहत देर रात तक कार्रवाई चलती रही.

    पुलिस के जाल में फंसे साइबर ठग

    इस ऑपरेशन की कुल अवधि पुलिस बल की ब्रीफिंग से लेकर विभिन्न स्थानों पर तलाशी अभियान तक 24 घंटे की थी। डीजीपी हरियाणा प्रशांत कुमार अग्रवाल के निर्देश पर एडीजीपी साउथ रेंज रेवाड़ी एम रवि किरण, डीआईजी एसटीएफ सिमरदीप सिंह और एसपी नूंह वरुण सिंगला ने व्यापक कार्रवाई कर इस पूरे ऑपरेशन को सफल बनाने में अहम भूमिका निभाई. एसपी नूंह वरुण सिंगला ने बताया कि 4 अप्रैल से भोंडसी में 8 अप्रैल तक चले साइबर प्रशिक्षण कार्यक्रम के बाद पुलिस को मिली खुफिया जानकारी के बाद ही नूंह में साइबर ठगों पर नकेल कसने के लिए इस विशेष अभियान की रूपरेखा तैयार की गयी.

    पुलिस ने सबसे पहले जिले के साइबर क्राइम हॉटस्पॉट माने जाने वाले 14 गांवों की मैपिंग कर लक्ष्य तय किया। खेड़ला, लुहिंगा खुर्द, लुहिंगाकलां, गोकलपुर, गोधोला, अमीनाबाद, महून, गुलालता, जयवंत, जाखोपुर, नई, तिरवाड़ा, ममलिका और पापड़ा को साइबर क्राइम का हॉटस्पॉट घोषित किया गया और ताबड़तोड़ छापेमारी कर कार्रवाई की गई. नूंह जिला पुलिस 8 अप्रैल से साइबर धोखाधड़ी के मामलों में शामिल 20 अपराधियों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है.

    जानिए कहां से कितने आरोपी हुए गिरफ्तार

    नया गांव से ही 31 साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है। लुहिंगा कलां गांव से 25, जयवंत व जाखोपुर से 20-20, खेड़ला व तिरवाड़ा से 17-17 तथा अमीनाबाद व अन्य गांवों से 11 साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने इन अपराधियों के पास से भारी मात्रा में मोबाइल फोन, एटीएम और अन्य उपकरण के साथ ही नकदी भी बरामद की है.

    इन राज्यों से जुड़े हैं हैकर्स के तार

    शुरुआती जांच में गिरफ्तार आरोपियों के अन्य राज्यों के साइबर अपराधियों से संबंध भी सामने आए हैं. पुलिस को शक है कि ये लोग दूसरे राज्यों के गिरोह से मिलीभगत कर वारदात को अंजाम दे रहे हैं। इस बारे में उससे पूछताछ की जा रही है।